First Aid (Prathmik Chikitsha) In Hindi – जानिए प्राथमिक चिकित्सा क्या है और कैसे करें?

दोस्तों आप सभी का इंटरनेट सहायता पर हार्दिक स्वागत हैं, आज के इस पोस्ट में हम First Aid (प्राथमिक चिकित्सा) की जानकारी देंगे जिसमे हम आपको बातएंगे first aid kya hai?, first aid golden rules kya hai? तथा first aid kit information in Hindi.

तो आइये दोस्तों जानते है First Aid यानि Prathmik Chikitsha के बारे में :-

first aid in hindi
first aid in hindi

First Aid (Prathmik Chikitsha) Kya Hai?

प्राथमिक चिकित्सा(Prathmik Chikitsha) का तात्पर्य है की दुर्घटना ग्रस्त या अचानक बीमार हो जाने वाले मरीज़ की तत्काल और अस्थायी तौर पर की जाने वाली देखभाल से हैं। इसका उद्देश्य डॉक्टर की सेवा प्राप्त होने तक, या अस्तपाल ले जाने के दौरान जीवन बचाने और स्थति को ज़्यदा गंभीर होने से बचाना हैं।

प्राथमिक चिकित्सा मूल रूप से एक प्रकार का प्रारम्भिक सहायता है न की वास्तविक उपचार। प्राथमिक चिकित्सा का काम दुर्घटना स्थल पर मौजूद सामान से मरीज़ को सहायता या उपचार करने से है ताकि उसकी सिचुएशन ज़्यदा गंभीर न हों।

तो दोस्तों अब आपको फर्स्ट ऐड की परिभाषा समझ आ गई होगी और पता चल गया होगा की प्राथमिक चिकित्सा का मतलब क्या होता है। तो आइये अब जानते है Prathmik Chikitsha ka Uddeshya.

Prathmik Chikitsha Ka Uddeshya Kya Hai? (प्राथमिक चिकित्सा का उद्देश्य क्या हैं?)

प्राथमिक चिकित्सा(Prathmik Chikitsha) का मुख्य उद्देश्य है, की चोटिल या दुर्घटना ग्रस्त व्यक्ति को डॉक्टर की सेवा प्राप्त होने तक या डॉक्टर की ट्रीटमेंट पाने तक उसका ध्यान रखना, उसका जीवन बचाने के प्रयाश करना और परिस्थिति को ज़्यदा गंभीर होने से रोकना हैं।

Prathmik Chikitsha Ka Uddeshya:-

  • दुर्घटना ग्रस्त व्यक्ति की जान बचाने के प्रयास करना
  • सिचुएशन को ज़्यदा गंभीर होने से रोकना
  • प्रारम्भिक सहायता प्रदान करना

First Aid Full | प्राथमिक चिकित्सा का अर्थ

  • F :-  First 
  • I :- Investigation
  • R :- Relief
  • S :- Symptom
  • T :- Treatment
  • A :- Arrangement
  • I :- Immediately
  • D :- Disposal

Other Full Form Of First Aid :-

F:- Fast

I:- In

R:-Rescue

S:- Save

T:- Through

A:- Aider

I:- Into

D:- Doctor

First Aid ABC नियम क्या हैं ?

A :- Airway

B :- Breathing

C :- Circulation

First Aid Day कब और क्यों मनाया जाता हैं ?

First Aid Day :- हर वर्ष 14 सितम्बर का दिन first aid day के रूप में मनाया जाता है। First Aid Day के शुरुवात लगभग सन 2000 से International Federation of Red Cross and Red Crescent Societies (IFRC) द्वारा की गई है। इस दिन अधिक से अधिक लोगो को प्राथमिक चिकित्सा के महत्व के बारे में बताया जाता है तथा प्राथमिक चिकित्सा का प्रशिक्षण दिया जाता है।

First Aid Day मानाने का मुख्य उद्देश्य है की सभी लोगो को प्राथमिक उपचार के बारे में बताना तथा समाज को इसके प्रति जागरूक करना ताकि दुर्घटना के समय पीड़ित मरीज़ को पप्राथमिक उपचार और सहायता मिल सके।

First Aid Kit in Hindi

बहुत से जगहों पर आपने First Aid Kit (Prathimik Chikitsa Kit) देखीं होगी लेकिन क्या कभी यह जानने की कोशिश करी है, की First Aid Kit के अंदर क्या होता है? या फिर प्राथमिक चिकित्सा किट बनाने के लिए किन सामग्री की जरुरत पड़ती होंगी।

स्कूल, बस आदि सभी स्थानों पर फर्स्ट ऐड किट उपलब्ध होती है ताकि जरुरत के समय उनका इस्तेमाल कर सके। तो अगर आप भी चाहते है की प्राथमिक चिकित्सा की जानकारी के साथ साथ आप खुद का भी उपचार कर सके फिर आपको first aid kit जरूर बनानी चाहिए। तो आइये जानते है First Aid Kit Kya Hota Hai, और First Aid Kit कैसे बना सकते हैं।

First Aid Kit Kya Hota Hai?

First Aid Kit Kya Hota Hai? – आपातकालीन स्थिति में जीवन बचाने के लिए उपयोग में लाई गई किट (बॉक्स) जिसके अंदर दवाई, उपकरण, तथा अन्य मेडिकल सामग्री उपलब्ध होती है उसे first aid kit या फिर प्राथमिक चिकित्सा पेटिका कहते हैं।

first aid kit items
first aid kit

First Aid Kit Items | प्राथमिक चिकित्सा सामग्री

  • रुई का बंडल
  • पट्टी का बंडल
  • छोटी कैंची
  • 10-12 बैंडेज
  • थर्मामीटर
  • डेटॉल
  • बर्फ की बैग
  • मेडिकल टेप
  • एंटीसेप्टिक क्रीम
  • दवाइयाँ :- (बुख़ार की दवाई(paracetamol), दर्द की दवाई(ibuprofen), कीड़े काटने की दवाई(anthelmintic) आदि
  • पोछने का कपड़ा
  • सेफ्टी पिन
  • ग्लूकोज/पानी

तो ऊपर दिए गए सभी सामग्री से आप first aid kit box को बना सकते है और भविष्य में कभी भी जरुरत आने पर इसका इस्तेमाल भी कर सकते है।

प्राथमिक उपचार करने वाले में निम्न महत्वपूर्ण गुण होने चाहिए (The Important Qualities the First Aider should posses.)

  • सहायता मांगने पर वह तुरंत सहायता पहुचाये।
  • मरीज को वह शांतिपूर्वक ढंग से सहयता करे।
  • उसे, प्रत्यक्ष चोट और जान के लिए खतरा हो सकने वाले हालत का उपचार करना चाहिए।
  • यदि प्राथमिक उपचार सामग्री उपलब्ध नहीं है, तो उसे उपलब्ध सामग्री का तत्काल इस्तेमाल करके सिचुएशन को सुधारने का प्रयास करना चाहिए।

Golden Rules Of First Aid in Hindi.

प्राथमिक चिकित्सा के स्वर्णिम नियम :-

  • प्रथम करने जैसे कार्य शांति से और और घबराहट किये बिना करे।
  • यदि साँस बंद हो गयी तो मरीज़ को सास दे क्योकि यहाँ प्रत्येक सेकंड महत्वपूर्ण हैं।
  • यदि मरीज़ के शरीर से खून निकल रहा हो तो उसे तत्काल बंद करें।
  • मरीज़ को थोड़ी दूर ले जाये ताकि उसे सदमें से बचाया जा सके।
  • अधिक जोरदार प्रयास न करें। जान की रक्षा के लिए जितना आवश्यक हो उतनी ही करे और हालत बिगड़ने से रोकें।
  • मरीज़ को और आसपास के लोगो को आश्वस्त करे और चिंता को काम करने का प्रयास करें।
  • फ्रेश हवा जरुरी है इसलिए मरीज़ के आस पास भीड़ इकठी न होने दे।
  • आवश्यकता न हो तो मरीज़ के कपड़े न उतारे।
  • मरीज़ को जल्द से जल्द डॉक्टर या हॉस्पिटल में ले जाने का प्रबंध करें।

तो दोस्तों ये थे first aid के गोल्डन रूल्स आइये अब जानते है निम्न मामले में प्राथमिक चिकित्सा कैसे करें?

दम घुटने पर प्राथमिक उपचार | First Aid In Asphyxia

Asphyxia एक ऐसी अवस्था है जिसके अंदर साँस न ले पाने की स्थिति और बेहोशी होती है। ऐसे में अगर जल्दी इसका उपचार नहीं किया गया तो यह मौत का कारण बन सकता हैं।

दम घुटने के कारण :-

  • सांस नली में पानी का होना
  • मुँह के हवा नली में हार्मफुल गैसे का होना
  • इलेक्ट्रिक शॉक लगना
  • हवा नली में किसी बाहरी वस्तु का फ़सना, आदि

तो यह सभी कारण हो सकते है बेहोशी या दम घुटने के।

First Aid In Asphyxia in Hindi

-बेहोशी मरीज़ को दुर्घटना स्थल से थोड़ा दूर ले जाए

-आस पास भीड़ को इकठा न होने दें ताकि मरीज़ को फ्रेश हवा मिल सकें

-मरीज़ की जांच कीजिए की उसके हवा नली में कुछ फ़सा है या नहीं

-अगर मरीज़ बेहोशी अवस्था में है तो उसे जल्द से जल्द Artificial Respiration दीजिए।

-मरीज़ को जल्द से जल्द हॉस्पिटल या डॉक्टर के पास ले जाए ताकि उसकी सिचुएशन और ख़राब न हों।

इलेक्ट्रिक इंजुरी पर प्राथमिक उपचार | First Aid In Electrical Injury

Electric Injury एक आपातकालीन सिचुएशन है। इसलिए जल्दबाज़ी और विलंब दोनों जानलेवा साबित हो सकते है।

-सबसे पहले बिजली का आगमन बंद करें

-मरीज़ को करंट या बिजली के संपर्क से दूर हटाने के लिए किसी सुखी लकड़ी के डंडे का प्रयोग करें।

-यदि मरीज़ बेहोशी हालत में है तो उसे Artificial Respiration दें।

-Immediately डॉक्टर को मरीज़ की हालत के बारे में बताइये और उसे हॉस्पिटल ले जाने का प्रबंध करें।

कुत्ते के काटने पर प्राथमिक उपचार | First Aid In Dog Bite

कुत्ते के काटने वाली जगह को अच्छे से साबुन और पानी से साफ़ करें।

-यदि first aid box में carbolic acid या potassium permanganate का सलूशन उपब्ध है तो कुत्ते के काटने वाली जगह पर लगाए

-मरीज़ को जल्द से जल्द डॉक्टर के पास भेजें ताकि उसका ट्रीटमेंट हो सके

Note :- कुत्ते के काटने पर उपचार करना बहुत जरुरी है क्योकि कुत्ते के काटने से रेबीज जैसी जानलेवा बीमारी हो सकती हैं।

सांप के काटने पर प्राथमिक उपचार | First Aid In Snake Bite

सांप के काटने पर प्राथमिक उपचार का उदेश्य है की सांप के ज़हर को मरीज़ के बॉडी में फैलने से रोकना या उसके General Circulation तक ज़हर को पहुंचने से रोकथाम करना।

-साँप के काटे हुए व्यक्ति को भरोसा दिलाए की चिंता की कोई बात नही हैं

-साँप के काटे हुए स्थान को अच्छे से 2 मिनट तक पानी या potassium permanganate के सलूशन से धोये

-यदि मरिज़ बेहोश हो रहा है तो उसे बेहोश न होने दें

-यदि मरीज़ सास नहीं ले रहा है तो उसे Artificial Respiration दें।

-मरीज़ को जल्द से जल्द नजदीकी अस्पताल ले जाएं।

डूबने पर प्राथमिक उपचार | First Aid In Drowning

नाक और मुँह में पानी जाने के कारण हवा नाली बंद हो जाती है, ऐसी अवस्था में सांस भी बंद हो जाती है जिसे हम (Drowning)डूबना कहते हैं। यदि आपके आस पास कोई वयक्ति डूब रहा है तो आप इन निम्न तरीको से उसको बचा सकते हैं।

-सबसे पहले शोर मचाए ताकि आस पास के लोग इकठा हो जाएं और उनसे मदद माँगे।

-यदि आपको तैरना नहीं आता है तो आप डूबते हुए व्यक्ति के पास कोई तैरने वाली चीज़ जैसे की सुखी लड़की या टूयूब फेंके

-यदि डूबे हुए व्यक्ति को सांस नहीं आ रही हो तो उसे तुरंत CPR दें और अस्पताल ले जाने का प्रबंध करें।

NOTE :- “ऊपर बताए गए सभी तरीक़े केवल प्रशिक्षित व्यक्ति ही कर सकते है, अगर आपको First Aid देने का सही तरीका नहीं मालूम है तो आप तनिक भी प्रयास न करें। क्योकि आपातकालीन सिचुएशन में एक गलत प्रयास किसी की जान ले सकता हैं।”

आज आपने क्या सीखा ?

तो दोस्तों यह लेख पढ़ के आपको क्या जानकारी मिली हमे कमेंट करके जरूर बताए और अगर आपके मन मे प्राथमिक चिकित्सा के ऊपर कोई प्रश्न है तो उसे जरूर पूछे। First Aid In Hindi की जानकारी सही लगी हो तो इसे ज़्यदा से ज़्यदा शेयर और लाइक करें।

यह भी पढ़े :-

1 thought on “First Aid (Prathmik Chikitsha) In Hindi – जानिए प्राथमिक चिकित्सा क्या है और कैसे करें?”

Leave a Comment