Personal Hygiene (व्यक्तिगत स्वच्छता) in Hindi

Personal Hygiene का मतलब होता है खुद को साफ रखना। यह बहुत जरुरी होता है की पर्सनल हाइजीन द्वारा अपनी स्वछता को बनाए रखें और बीमारियां जैसे की खुजली, दांत सड़न आदि से बचे रहें। पर्सनल हाइजीन बहुत जरुरी होता है पब्लिक रिलेशन्स बनाये रखने के लिए। अगर आपके मुंह से गन्दी बदबू, पिले दाँत या फिर गंदे कपड़े होंगे तो कोई भी आपसे बात या आपके पास आना नहीं चाहेगा। इसलिए Personal Hygiene maintain करना बहुत आवश्यक बन जाता है।

इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको पर्सनल हाइजीन के बारे में विस्तार से समझाने का प्रयास करेंगे और साथ ही साथ आपको ऐसे बहुत से तरीके और सुझाव बताएँगे जिनको फॉलो कर आप व्यक्तिगत स्वच्छता को बढ़ावा दे सकते हैं। तो Personal Hygiene in Hindi के बारे में जानने के लिए इस पोस्ट को शुरू से अंत तक पढ़े लेकिन उससे पहले आइये जानते है Personal Hygiene की परिभाषा क्या होती है ?

Personal Hygiene की परिभाषा

personal hygiene in hindi

Personal Hygiene दो शब्दो से मिलकर बना है पर्सनल + हाइजीन, पर्सनल का मतलब होता है “स्वयं” और हाइजीन का मतलब होता है “स्वच्छ रहने का तरीका”। सरल भाषा में personal hygiene की परिभाषा होगी “स्वयं को स्वच्छ रखने का तरीका“।

स्वयं को स्वच्छ कैसे रखें ? या फिर Personal Hygiene (व्यक्तिगत स्वच्छता) कैसे बनाये रखें ? या साफ़-सुथरा कैसे रहे ? यह सभी प्रश्न इंटरनेट पर खूब पूछे जाते है लेकिन इन सभी प्रश्नो का सही उत्तर आज आपको हमारे पोस्ट के माध्यम से सरल भाषा में मिलेगा तो अगर आप personal hygiene in hindi के बारे में विस्तार से जानना चाहते हो तो इस लेख को अंत तक पढ़े।

पर्सनल हाइजीन टिप्स इन हिंदी

  • skin की रक्षा और देखभाल करें
  • रोजाना नाहते समय साबुन और शैम्पू का इस्तेमाल करें
  • बालों की देखभाल करें
  • दाँत की देखभाल करें
  • आँखो की देखभाल करे
  • हाथों की देखभाल करें
  • पैरों की देखभाल करें
  • उचित नींद लें और आराम करें

त्वचा (skin) की देखभाल जरुरी क्यों हैं ?

त्वचा की देख-रेख बहुत जरुरी है क्योकि :-

Protective :- त्वचा शरीर को बाहरी वातावरण में मौजूद कीटाणु तथा बीमारी फैलाने वाले मिक्रोऑर्गेनिस्म से सुरक्षित रखती हैं। कीटाणु त्वचा को काटकर शरीर के अंदर प्रवेश नहीं कर सकते है। कोई भी संक्रमण जीवाणु कटी हुई त्वचा के माध्यम से ही शरीर में जा सकता है अन्यथा कोई दूसरा रास्ता नही होता हैं।

Sensory :- हमारी त्वचा Sensory Organ के रूप में भी काम करती है जैसे त्वचा हमें गर्मी, ठंडी, दर्द, प्रेशर, टच का अनुभव करवाती है।

Heat Regulation :- त्वचा (Skin) बहुत जरुरी होता है body के constant temperature को बनाए रखने के लिए। .

Source of Vitamin D :- शरीर के अंदर Vitamin D, त्वचा और सूरज की उल्ट्रावॉइलेट किरणों के कार्य से बनती हैं।

दोस्तों हम उम्मीद करते है की अब आपको पता चल गया होगा की त्वचा (skin) की देखभाल जरुरी क्यों हैं ? तो अब जानते है की त्वचा की हाइजीन को कैसे बनाये रखें और त्वचा कितने प्रकार की होती हैं ?

त्वचा के प्रकार

त्वचा मूल्य रूप से चार प्रकार की होती है :-

  • Normal Skin
  • Dry Skin
  • Oily Skin
  • Dry & Oily (Combination) Skin

त्वचा (skin) की देखभाल कैसे करें ?

हाइजीन ऑफ़ स्किन [Hygiene Of Skin] स्किन हमेशा बाहरी एनवायरनमेंट के संपर्क में रहती है जिससे इसपर गंदगी(dirt) चिपक जाती हैं। इन dirts के अंदर बहुत से बैक्टीरिया और कीटाणु होते है जो शरीर के लिए हानिकारक बन सकते है अगर इन्हे जल्दी हटाया नहीं गया। इसलिए रोजाना नहाना चाहिए। नहाते सयम साबुन का जरूर उपयोग करें क्योकि साबुन बहुत अच्छा surface cleansing agent होता है जो स्किन पर लगी dirt को अच्छे से साफ़ करता है।

नहाने के अलावा दिन में कम से कम एक बार कपड़े बदलना भी बहुत जरुरी होता है। नहाने से सिर्फ त्वचा ही साफ़ नहीं होती बल्कि ब्लड सर्कुलेशन और शरीर के अंदर ताज़गी आती है। स्किन की हाइजीन को बनाये रखने के लिए आयल बाथ बहुत मददगार साबित होता है। रफ़ और ड्राई स्किन विटामिन की कमी के कारण होती है इसलिए बैलेंस्ड डाइट में स्किन के लिए जरुरी विटामिन को भी लेना चाहिए।

बालों की देखभाल कैसे करें ?

बालों की दुर्दशा से हमे किसी का भी न्यूट्रिशनल स्टेटस और उसकी स्वछता का पहले पता चल जाता है। उलझे बिखरे बालों से पुअर नुट्रिशन स्टेटस का अंदाजा लगाया जा सकता हैं अगर बालो को सही नौरिश्मेंट नहीं मिलता तो वह टूटने लगते है। आपने ऐसे बहुत से बच्चे को देखे होंगे जिनके बाल झड़ रहे होते है यह सब बालों की सही देखभाल नहीं करने से होता है।

डैंड्रफ बालों की सबसे गंभीर समस्या होती है इसलिए hair की हाइजीन को बनाए रखना महत्वपूर्ण होता है। इसके लिए आप नहाते समय बालों में शैम्पू जरूर करे साथ ही साथ हफ्ते में एक बार बालों में नारियल का तेल और सिर की मसाज़ जरूर करें इससे आपके बालों के जड़ मज़बूत होगी और आपके बाल स्वच्छ रहेँगे।

दाँतो की देखभाल कैसे करें ?

दाँत की देखभाल करना Oral Hygiene का महत्वपूर्ण हिस्सा है। अच्छा oral hygiene आपके दाँतो को साफ़ एवं चमकीला बनता हैं। किसी के सामने कोई स्पीच या कुछ बोलना हो तो इसमें आपके दांतो की अहम भूमिका रहती है। अगर आपके दांत गंदे, और बदबूदार हुए तो कोई भी आपसे बात करना पसंद नहीं करेगा।

दांतो की हाइजीन न बनाये रखने से आपको tooth decay और gum and pyorrhea जैसी बीमारी हो सकती हैं। इसलिए दिन में दो बार दांतो को साफ़ करना जरुरी हैं। खाना खाने के बाद दांतो को सही से साफ़ करना चाहिए। साल में दो बार डेंटल चेक उप अवश्य करवाना चाहिए इससे आपके दांतो का स्टेटस पता चल जाता है की वह स्वस्थ है या नहीं।

कुछ आदतें दांतो से जुड़ी बीमारियों को बढ़ावा देती है जैसे की बहुत से लोग तम्बाकू खाते है जो उनके शरीर पर बुरा प्रभाव डालता है साथ में दांतो को कमज़ोर करता है और mouth cancer का कारण भी बनता है। छोटे बच्चों की आदत होती है की वह स्वीट्स को मुँह में बहुत देर तक रखते है जिनसे दांतो में सड़न लग जाती है और धीरे धीरे दाते ख़राब होने लगती हैं। पर इन सभी बुरी आदतों को छोड़ कर दाँतो को स्वस्थ बनाया जा सकता हैं।

आँखों की देखभाल कैसे करें ?

आँखे मानव शरीर का सबसे खूबसूरत और संवेदनशील अंग है। इसलिए इन्हे “सीखने की खिड़कियां” भी कहते है। कुछ ऐसे कारण है जिनसे आँखे प्रभावित होती है जैसे की

  • Infections [ conjuctivities, trachoma, styes ]
  • Injuries [corneal, ulcers ]
  • Malnutrition [ nightblindess, xerophthalmia ]
  • Errors of refraction [ short-sightedness, long-sightedness ]
  • Other [ cataract, glaucoma ]

आँखो के पास की त्वचा को हमेशा पानी और साबुन से साफ़ रखना चाहिए ,सोने से पहले आँखो को धो लेना एक बहुत अच्छी आदत है क्योकि इससे पूरी दिन में जो भी गंदगी आँखो में इकठा होती है वह साफ़ हो जाता हैं। हमेशा एक अलग तौलिया रखें जिसका उपयोग आप आँख और मुँह को पोछने के लिए करेंगे।

आँखो से कभी डायरेक्ट सूरज की किरणों को न देखें। एक्सरसाइज से आँखे बहुत अच्छी रहती है। रोजाना भोजन में विटामिन “ए” वाली सब्जी, फलों को ले जो आखो के लिए फ़ायदेमंद होती हैं।

कान की देखभाल कैसे करें ?

हाइजीन ऑफ़ एअर [hygiene of ears] – कान शरीर का बहुत महत्वपूर्ण अंग है इसे शरीर का “sense organ” भी कहते हैं। कभी-कभी नाक और गले में हुआ इन्फेक्शन कान तक पहुंच जाता है और ऐसे में कानो में दर्द और सूझन की समस्या आ सकती है इसलिए नाक और गले को हमेशा साफ़ रखें।

कान के देखभाल मुख्य 5 तरीकों को अपनाकर किया जा सकता है :-

  • कान को हमेशा साफ़ रखें
  • महीने या हफ़्ते में कान के अंदर के wax को जरूर साफ़ करें
  • कान को तेज आवाज से बचाएं तेज आवाज आपकी सुनने की क्षमता को कम कर सकता हैं।
  • कान में कोई बाहरी वस्तु न डाले जैसे की पेंसिल, पेपर आदि

हाथों की देखभाल कैसे करें ?

हाइजीन ऑफ़ हैंड [hygiene of hands] – हाथ और नाख़ून बहुत जल्दी गन्दी और बैक्टीरिया के संपर्क में आ जाते है। क्योंकि हमारा हाथ बहुत सी चीज़ो के संपर्क में आते रहता हैं। इसलिए इन्हे हमेशा साफ़ रखना चाहिए ख़ासकर खाने से पहले और लैट्रिन के बाद। हाथों को साफ़ रखने का आसान तरीका है पानी और साबुन। नाख़ून को हमेशा काट कर रखे जिससे गंदगी इकठा न हो और हाथों को साफ़ रखने के लिए आपको सभी बुरी आदतें को छोडना होगा जैसे की बार बार नाख़ून को मुँह में लगाना, नाक में लगना आदि इन सभी बुरी आदतों का त्याग आपके हाथों को साफ़ बनाये रखेगा।

आराम और नींद से पर्सनल हाइजीन बनाएं रखें

शरीर को आराम और अच्छी नींद चाहिए स्वस्थ रहने के लिए। मानव अपने सम्पूर्ण जीवन काल का तीसरा भाग सोने में बीतता हैं। नींद के समय हमारा शरीर और मस्तिष्क आराम करते हैं। नींद का समय उम्र, सेक्स, काम का तरीका और तापमान पर निर्भर करता हैं। बच्चे को हमेशा 12-14 घंटे की नींद और आदमी को 7-9 घंटे की नींद जरुरी हैं। जल्दी सोना और जल्दी उठना बहुत लाभकारी साबित होता हैं।

आराम और नींद लेने का सबसे अच्छा तरीका है बिस्तर पर समतल(flat) हो कर सोयें। एक से ज़्यदा तकिया(pillow) का इस्तेमाल न करें और ऐसे रूम में नींद ले जहाँ पर उचित हवादार हों। और अगर आपको नींद जल्दी नहीं आती है तो इसके लिए आप अपने अच्छे पलों को याद कर सकते है या फिर अपनी पसंद की कोई स्टोरी पढ़ सकते हैं। जिससे आपको ज़ल्दी नींद आ जाएगी।

आज आपने क्या सीखा ?

उम्मीद करते है, की आपको personal hygiene in hindi लेख पढ़ कर व्यक्तिगत स्वच्छता के बारे में अच्छे से पता चल गया होगा। लेकिन फिर भी आपका कोई प्रश्न है तो हमसे बेझिझक पूछ सकते है। हम जल्द से जल्द उतर देने का प्रयास करेंगे। अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों और रिलेटिव के साथ जरूर शेयर करे ताकि ज़्यदा से ज़्यदा लोग पर्सनल हाइजीन की इम्पोर्टसंस को समझ सके। धन्यवाद मिलते है आप से अपने अगले लेख में —

यह भी पढ़े :-

FAQ

  1. What is personal hygiene in hindi

    Personal Hygiene का मतलब होता है खुद को साफ रखना। यह बहुत जरुरी होता है की पर्सनल हाइजीन द्वारा अपनी स्वछता को बनाए रखें और बीमारियां जैसे की खुजली, दांत सड़न आदि से बचे रहें

 

1 thought on “Personal Hygiene (व्यक्तिगत स्वच्छता) in Hindi”

Leave a Comment